मिट्टी बचाओं अभियान को लेकर पूर्वी और पश्चिमी चंपारण के कृषि विज्ञान केंद्र में हुआ कार्यक्रम आयोजन

0 36

चंपारण:- सदगुरु (ईशा फ़ाउंडेशन) द्वारा संकल्पित मिट्टी बचाओ अभियान के अंतर्गत जागरूकता को अगले चरण में ले जाने हेतु पटना से शुरू करके बाइक रैली खगरिया, भागलपुर ,बौसी,सिमराही , दरभंगा, मुजफ्फरपुर के बाद पूर्वी और पश्चिमी चंपारण में भी हुई।

कृषि विज्ञान केंद्र माधोपुर और कृषि विज्ञान केन्द्र पिपरा,मोतिहारी में मिट्टी बचाओ अभियान के तहत एक आयोजन में यहां के राइडर्स एवं भूमित्र मनीष मोहन, अंकित कुमार, सौरव यादव, नीतीश कुमार,राहुल राज, आयुष जैसवाल, रितिक राज, रवि रौशन यादव शामिल हुए। उन्होंने कृषि विभाग में मौजूद कृषि शिक्षा ले रहे लोगो को आंगन बाड़ी के शिक्षकों को भारत समेत दुनिया भर की मिट्टी की वर्तमान हालत के बारे में बताया और मिट्टी को बचाने की अत्यंत जरूरत के बारे में जोर दिया । जिसमे माधोपुर कृषि विज्ञान केंद्र के सीनियर साइंटिस्ट एसके गंगवार, मिट्टी वैज्ञानिक डॉक्टर धीरू, पिपरा कोठी में कृषि विज्ञान केंद्र के सीनियर साइंटिस्ट एके सिंह, और मिट्टी वैज्ञानिक आनंद कुमार जैसे बुद्धिजीवी शामिल थे। और सबने इस अभियान को सराहा, इसके सफल होने की शुभकामनाएं दी और अपने स्तर पर लोगो को जागरूक करने का निश्चय भी किया ।

जनमानस को मिट्टी बचाने के लिए चलाए जा रहे मुहिम के विषय में जागरूक करने की यह उनकी एक सराहनीय प्रयास है। ज्ञात हो कि इस अभियान को भारत के विदेश मंत्रालय, संयुक्त राष्ट्र कन्वेंशन टू कॉम्बैट डेजर्टिफिकेशन (UNCCD), कई विश्व-प्रसिद्ध प्रभावकों, संस्थाओं और राज्यों के प्रमुखों का समर्थन प्राप्त है। 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस पर हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भी सदगुरु से मुलाकात की और मिट्टी के मरुस्थलीकरण के मुद्दे को संबोधित किया। उन्होंने मिट्टी बचाओ अभियान के लिए अपना हार्दिक समर्थन भी व्यक्त किया है। अभी तक विश्व के कईं देश ने एवं भारत के 7 राज्यों की सरकारें इस अभियान के साथ जुड़ चुके हैं।

हमारी मिट्टी दिन प्रतिदिन मरूस्थल बनती जा रही है । संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार अनुमान है कि 2080 तक दुनिया की सारी मिट्टी बालू यानी मरूस्थल में बदल जाएगी । अच्छी मिट्टी में ऑर्गेनिक (जैव) सामग्री कम-से-कम 3-6 % होना चाहिए, जो कि अभी भारत के 62% मिट्टी में 0.5% से भी कम है । यानी भारत की 62% मिट्टी लगभग लगभग मरूस्थल बन चुकी है । और वैसे ही पूरी दुनिया की 52 % मिट्टी मरूस्थल बन चुकी है ।

यह अत्यंत जरूरी है कि सभी जिम्मेदार नागरिक समाज को मिट्टी बचाने के लिए शिक्षित करें एवं प्रेरित करें। अतः इस महत्वपूर्ण व पावन मिट्टी बचाओ अभियान के विषय में जन-जन को जागरूक करने के लिय बिहार के साथ-साथ भारत के हर राज्य से कुछ ईशा स्वयंसेवक एवं भूमित्र बाइक राइड कर पूरे भारत की सफर कर रहें हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.