नेपाल ने पश्चिमी चंपारण के भिखना ठोड़ी पर ठोका अपना दावा, आपस में पत्थरबाजी करने को आतुर हैं लोग

0
91

पश्चिमि चंपारण(बेतिया): भारत-नेपाल के बीच सीमा विवाद बढ़ता ही जा रहा है, पहाड़ी इलाकों का सीमा विवाद अब तराई के सीमावर्ती इलाकों में जमता जा रहा है। अब नेपाल ने फिर एक बाद बड़ा विवाद खड़ा कर दिया है. भारत और नेपाल सीमा पर स्थित सीता गुफा के पास के एक पिलर को उखाड़ दिया है. इसके बाद स्थानीय लोगों ने इस बात की जानकारी प्रशासन को दी और लोगो के बीच विवाद बढ़ता ही जा है । जानकारी मिलने के बाद एसएसबी के जवान और पदाधिकारी मौके पर पहुंचे. जहां भारत नेपाल सीमा के भिखनाठोड़ी में नेपालियों ने सीमा पर लगे 436 नंबर पीलर को उखाड़ दिया है।

आस-पास के ग्रामिणों की भीड़

दरअसल, पश्चिमि चम्पारण के भिखनाठोड़ी में स्थित नो मेंस लैंड के पहाड़ पर एक सीता गुफा है. इस पर नेपालियों ने दावा ठोकते हुए सीता गुफा के पास का पीलर उखाड़ दिया है. नेपाली पीएम ओली के बयान के अनुसार ठोड़ी से लेकर वाल्मीकिनगर के वाल्मीकि आश्रम तक अयोध्या था जिसके बाद नेपाली नागरिक इन स्थलों पर एक के बाद एक दावा ठोक रहे हैं। इसी कारण विवाद बढ़ता ही जा रहा है।

इसी जगह से उखाड़ा गया है पीलर संख्या 436

नेपाली नागरिकों ने कहना है कि सीता माता इस गुफा में कुछ दिन रुकी थी. यहीं से फिर वाल्मीकि आश्रम गई थी. पंडई नदी के बीचो-बीच पहाड़ पर स्थित इस सीता गुफा में दोनों ही देश के लोग अबतक पूजा अर्चना करते आ रहे थे, लेकिन नेपाल सरकार के बयान के बाद सीमावर्ती इलाके में स्थित भगवान राम और माता सीता से जुड़े स्थलों पर नेपाली सरकार के साथ स्थानीय नागरिक भी अपना अधिकार जमाने लगे हैं. फिलहाल इस इलाके के लोगो में तनाव बना हुआ है। एसएसबी की 44वीं बटालियन के जवान सीमा पर मुस्तैदी के साथ खड़े है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here