CM Nitish in Bettiah: सीएम नीतीश कुमार पहुंचे बेतिया, विधायक, विधान पार्षद को नहीं मिली गेस्ट हाउस में एंट्री

0 18
CM Nitish in Bettiah: सीएम नीतीश कुमार पहुंचे बेतिया, विधायक, विधान पार्षद को नहीं मिली गेस्ट हाउस में एंट्री

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जिला मुख्यालय के अतिथि गृह में रुके हैं। सीएम के कार्यक्रम को लेकर जिले भर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए है। अतिथि गृह में सीएम के जाने के बाद विधायक और अन्य नेताओं कोअंदर जाने की एंट्री नहीं मिली।

बेतिया, संवाददाता: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समाधान यात्रा के पहले दिन बगहा के बाद बेतिया पहुंचे हैं। गुरुवार की दोपहर 1:45 बजे सीएम का काफिला बेतिया जिला मुख्यालय में अवस्थित अतिथि भवन में पहुंचा। मुख्यमंत्री को एक सूबेदार, तीन हवलदार और 21 सिपाहियों की टीम के साथ परिचारी प्रवर पुलिस निरीक्षक अजय कुमार सिंह ने गार्ड आफ आनर दिया। सर्किट हाउस परिसर में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम है। सुरक्षा कारणों से सिकटा के विधायक को सर्किट हाउस में इंट्री नहीं मिली। वहीं, राजद के विधान पार्षद सौरभ कुमार को भी वाहन से अंदर नहीं जाने दिया। बाहर में खड़े जदयू के दर्जनों कार्यकर्ताओं को भी अंदर नहीं जाने दिया गया।

बता दें कि अतिथि गृह में करीब एक घंटे रुकने के बाद मुख्यमंत्री दो बजे के बाद समाहरणालय में जाएंगे। सबसे पहले जीविका दीदियों से संवाद करेंगे। जिले के चनपटिया, बैरिया, नौतन एवं मझौलिया की 70 जीविका दीदियों को बुलाया गया है। ये सभी दीदियां मुख्यमंत्री सतत जीविकोपार्जन योजना से लाभान्वित हैं। जीविका दीदियों की विकास गाथा सुनने के बाद सीएम जिले के विकास योजनाओं की समीक्षा करेंगे।

सीएम की सुरक्षा के कड़े इंतजाम

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आगमन को लेकर सर्किट हाउस में भोजन की विशेष तैयारी की गई है। सर्किट हाउस परिसर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम है। परिसर के बाहर जदयू के नेताओं की सुबह से ही जुटान है। जदयू के जिलाध्यक्ष शत्रुघ्न कुशवाहा के नेतृत्व में दो दर्जन से अधिक जदयू नेता पहुंचे हुए हैं।

सुरक्षा का पुख्ता प्रबंध

मुख्यमंत्री की यात्रा को लेकर जिले में सुरक्षा का पुख्ता प्रबंध किया गया है। जगह-जगह पर्याप्त संख्या में पुलिस जवानों की तैनाती की गई है। मुख्यमंत्री के परिभ्रमण के मार्ग के यातायात रूट विशेष नजर रखी जा रही है। सीएम के भ्रमण और ठहराव वाले स्थानों पर सुरक्षा की इस तरह प्रबंध किया गया है कि परिंदा भी पर न मार सके। सुरक्षा में तैनात पदाधिकारियों व कर्मियों को विशेष चौकसी और निगरानी रखने के साथ ही हर तरह की सूचना संग्रह करने का भी निर्देश दिया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.