बेटी पढ़ाओ अभियान : बिहार में 18.2 फीसदी बेटियां पांच साल से कम कर पाती हैं पढ़ाई, झारखंड और UP हमसे बेहतर

0 25

बिहार:- बिहार की 18.2 प्रतिशत बच्चियां पांच साल तक या उससे कम ही स्कूल में पढ़ाई कर पाती हैं। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की वर्ष 2019-21 की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। इसमें छात्र-छात्राओं के स्कूली शिक्षा पूरी करने के वर्ष के बारे में अलग से विश्लेषण कर बताया गया है कि पांच वर्ष से लेकर 12 वर्ष तक कितने छात्र और छात्राएं स्कूली पढ़ाई पूर कर पाते हैं।

रिपोर्ट बताती है कि सिर्फ लड़कियां ही नहीं, लड़कों की भी पढ़ाई पूरी नहीं हो पा रही है। सूबे में 21.8 प्रतिशत छात्र भी पांच वर्ष या उससे कम पढ़ पाते हैं। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की रिपोर्ट के बाद शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। तिरहुत प्रमंडल के क्षेत्रीय उप निदेशक (शिक्षा) जीवेंद्र झा का कहना है कि स्कूलों में ड्रॉपआउट रोकने के लिए सभी जिलों में अभियान चल रहा है। इसकी मॉनिटरिंग भी हो रही है। आकांक्षी जिला में शिक्षा के क्षेत्र में मुजफ्फरपुर को अवार्ड भी मिला है, लेकिन ऐसी रिपोर्ट आई है तो सभी जिलों के डीईओ से इस पर बात की जायेगी।

9.3 बच्चियां व 16.5 बच्चे ही 12 वर्ष तक जा पाते हैं स्कूल

फैमिली हेल्थ सर्वे की रिपोर्ट में कहा गया है पूरे सूबे में 9.3 प्रतिशत बच्चियां और 16.5 प्रतिशत बच्चे ही 12 वर्ष या उससे अधिक की स्कूली शिक्षा पूरी कर पाते हैं। 13.9 प्रतिशत बच्चियां पांच से सात वर्ष तक की स्कूली शिक्षा ले पाती हैं। 11.6 प्रतिशत बच्चियां आठ से नौ वर्ष तक और सिर्फ 8.1 प्रतिशत बच्चियां 10 से 11 वर्ष तक अपनी पढ़ाई स्कूल में जारी रख पाती हैं। सूबे में 38.9 प्रतिशत बच्चियां पूरी तरह स्कूल से ड्रॉपआउट हैं।

बच्चियों की पढ़ाई के मामले में पड़ोसी राज्य हमसे बेहतर स्थिति में है। उत्तर प्रदेश में पांच वर्ष या उससे कम स्कूली शिक्षा पाने वाली बच्चियों की संख्या 14.2 है, वहीं झारखंड में 16.2 प्रतिशत बच्चियां पांच वर्ष से कम स्कूल जा पाती हैं। पश्चिम बंगाल में सिर्फ यह आंकड़ा बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश से अधिक है। यहां 20.9 प्रतिशत बच्चियां पांच वर्ष या उससे कम अपनी पढ़ाई पूरी करती हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.